सर्दियों में वायु प्रदूषण का शि‍कार हो रहे ये पूर्वी राज्य: अध्ययन

अध्ययनकर्ताओं का कहना है कि नवंबर की शुरुआत में उत्तर भारत को अपनी आगोश में लेने वाला शीतकालीन स्मॉग दिसंबर के अंत और जनवरी की शुरुआत में पूर्व की ओर बढ़ना शुरू कर देता है। id="ram"> Last Updated: गुरुवार, 13 जनवरी 2022 (12:25 IST) नई दिल्ली, सर्दियों के दौरान भारत के पूर्वी

Read Full Article Posted By : India Known

महामारियों से मरती दुनिया, कई तो आज भी हैं हमारे बीच में एक्टिव

वैश्विक महामारी का इतिहास का इतिहास बहुत ही लंबा चौड़ा है। प्राचीन काल में तो कई तरह की अज्ञात रोगों का जन्म होता था जिनका तो आज तक कोई नाम भी नहीं जानता है। बस यही जानते हैं कि उस काल में महामारी फैली थी जिसके चलते लाखों लोग मारे गए हैं। आजकल आधुनिक विज्ञान के चलते महामारी के नाम तो रखे जाकर जाने जा रहे हैं, परंतु क्या अभी तक मिला है कोई ठोस इलाज? id="ram"> Last Updated: मंगलवार, 25 मई 2021 (21:38 IST) वैश्विक महामारी का इतिहास का इतिहास बहुत ही लंबा

Read Full Article Posted By : India Known

महामारी के समय में घर में जरूर रखें ये 15 वस्तुएं

घर में फालतू का सामान बहुत होता है और छूट जाती है वे जरूरी वस्तुएं जो हमारे जीवन में संकट के दौरान काम में आती है। कोरोना वायरस जैसे महामरी के दौर में आप अपने घर में रखें ये 15 वस्तुएं जो बहुत काम आएगी। id="ram"> अनिरुद्ध जोशी| पुनः संशोधित गुरुवार, 15 अप्रैल 2021 (18:24 IST) घर में फालतू का सामान

Read Full Article Posted By : India Known

एक प्राचीन श्लोक से जानिए कितने महत्वपूर्ण हैं पेड़....

जो कोई इन वृक्षों के पौधों का रोपण करेगा, उनकी देखभाल करेगा उसे नरक के दर्शन नहीं करना पड़ेंगे। क्या आप जानते हैं कि गुलमोहर, नीलगिरी सागौन (टीक वुड) जैसे वृक्ष अपने देश के पर्यावरण के लिए घातक हैं। id="ram">   अश्वत्थमेकम् पिचुमन्दमेकम् न्यग्रोधमेकम्  दश चिञ्चिणीकान्।

Read Full Article Posted By : India Known

शनि ग्रह के बारे में 12 रोचक बातें

शनि ग्रह के संबंध में ज्योतिष से अलग विज्ञान की धारणा कुछ अलग है। आओ जानते हैं विज्ञान के अनुसार शनि ग्रह की 10 खास बातें। id="ram"> अनिरुद्ध जोशी| शनि ग्रह के संबंध में ज्योतिष से अलग विज्ञान की धारणा कुछ

Read Full Article Posted By : India Known

आंत के बैक्टीरिया का व्यवहार समझाने के लिए नया शोध

अभी तक यह समझना मुश्किल रहा है कि मानवीय आंत में उपस्थित जीवाणु प्रवासी (बैक्टीरियल रेजिडेंस) यानी ई-कोलाई कैसे आगे बढ़ता है या रासायनिक क्रियाओं के प्रति उसकी क्या प्रतिक्रिया होती है। ई-कोलाई मानवीय जठर तंत्र (गेस्ट्रोइंटेस्टाइनल ट्रैक्ट) में उपस्थित विभिन्न रसायनों के प्रति कीमोटैक्सिस की क्षमता प्रदर्शित करता है। id="ram"> Last Updated: गुरुवार, 22 जुलाई 2021 (15:04 IST) नई दिल्ली, एक नए अध्ययन से ई-कोलाई और

Read Full Article Posted By : India Known

कॉर्निया को चोट से होने वाले नुकसान के इलाज में हाइड्रोजेल करेगा मदद

संस्थान में बायो-मेडिकल इंजीनियरिंग विभाग में एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. फाल्गुनी पाटी के नेतृत्व शोधकर्ताओं ने एक विशेष हाइड्रोजेल बनाया है जिसे आंख के कोर्निया में चोट लगने के तत्काल बाद उपयोग किया जा सकता है। id="ram"> Last Updated: गुरुवार, 30 सितम्बर 2021 (14:55 IST) नई दिल्ली, भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान

Read Full Article Posted By : India Known

प्रदूषित इलाकों में रहने वाले करेंगे रोज एक्‍सरसाइज तो कम होगी मौत की रिस्‍क

दूषित हवा वाले क्षेत्रों में भी नियमित व्यायाम करने पर मौत की संभावना को प्राकृतिक वजहों से कम कर सकता है। शोधकर्ता प्राकृतिक कारणों से मौत के खतरे पर लंबे समय तक सूक्ष्म कण पदार्थ का संपर्क और नियमित व्यायाम के प्रभावों को समझना चाहते थे। id="ram"> Last Updated: मंगलवार, 17 अगस्त 2021 (13:45 IST) कैनेडियन मेडिकल एसोसिएशन जर्नल में प्रकाशित

Read Full Article Posted By : India Known

वैज्ञानिकों ने विकसित की आंख के फंगल इन्फेक्शन की उपचार की नई विधि

अमूमन किसी फसल के पत्ते या इसके किसी अन्य भाग के संपर्क में आने से यह फंगल इन्फेक्शन होता है। इसे फंगल केराटॉसिस भी कहते हैं। इससे बचाव के लिए भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी), दिल्ली के वैज्ञानिकों की टीम ने एक ऐसी एंटीफंगल प्रविधि विकसित की है, जो फंगल आई इनफेक्शन के विरुद्ध प्रभावी सिद्ध हो सकती है। id="ram"> Last Updated: शनिवार, 3 जुलाई 2021 (12:36 IST) नई दिल्ली, भारत की आबादी का एक बहुत बड़ा हिस्सा

Read Full Article Posted By : India Known

आखि‍र कौन हैं ग्रेटा थनबर्ग जो हमेशा रहती है चर्चा में?

ग्रेटा 3 जनवरी 2003 को स्टॉकहोम में पैदा हुई थी। उनकी मां मालेना एमान एक अन्तरराष्ट्रीय ओपेरा सिंगर हैं, जबकि पिता स्वांते थनबर्ग भी अभिनय की दुनिया का एक अच्‍छा खासा नाम हैं। 8 साल की उम्र में ग्रेटा ने जलवायु परिवर्तन के बारे में सुना और इसे लेकर उसने काम शुरू कर दिया। id="ram"> Last Updated: मंगलवार, 12 अक्टूबर 2021 (12:44 IST) ग्रेटा थनबर्ग। यह नाम पहले भी चर्चा में आया था,

Read Full Article Posted By : India Known