Home / Hindi Poems
Category: Hindi Poems

International Tea Day : एक प्याली अमृत वाली

ख़ुशबू उड़ाती, रंगतवाली तेज़ चटकती अदरकवाली दूधो नहाती...

Read more

ताजा कविता : शिव को कौन रख सका बंदी, परम भक्त गण नंदी

शिव को कौन रख सका बंदी? देख रहा परमभक्त गण...

Read more

मां पर कविता : क्या है मां

अपने उजाले से जो पूरा संसार प्रकाशमय कर दे वह भुंवर की...

Read more

प्रभु त्रिवेदी के मौसमी दोहे

प्रभु त्रिवेदी के दोहे- खट्टी-खट्टी कैरियां, बनती वही...

Read more

प्रभु त्रिवेदी के मौसमी दोहे

प्रभु त्रिवेदी के दोहे- खट्टी-खट्टी कैरियां, बनती वही...

Read more

पृथ्वी दिवस पर कविता : धरती

आज फिर एक और ज़मीन के टुकड़े की किस्मत फूट गई,...

Read more

पृथ्वी दिवस पर कविता : सोचो क्यों कर जिए जा रहे हैं?

सोचो ज़रा अगर हम पेड़ होते जग को ठंडी छांह...

Read more

विश्व पृथ्वी दिवस पर कविता : दे दो उसे जीवनदान

परियोजनाओं के नाम पर, किया जा रहा पृथ्वी को परेशान। कोई...

Read more

महिमा मैया की कितना बखाने

कविता- महिमा मैया की कितना बखाने id="ram"> राकेशधर...

Read more

माखनलाल चतुर्वेदी की प्रतिनिधि रचनाएं

माखनलाल चतुर्वेदी सरल भाषा और ओजपूर्ण भावनाओं के अनूठे...

Read more

हिन्दी कविता :बच्चा और युद्ध

चारों तरफ छिड़ी हुई है, जंग/तबाह हो रहे हैं, शहर-दर-शहर मारे...

Read more

कविता : राम नवमी की महिमा अद्भुत

Ram Navami Poem राम नवमी पर भगवान श्री राम को समर्पित कविता- राम...

Read more

होली की कविता: वो होली कोई लौटा दो

सज गए बाजार चीनी पिचकारी से केमिकल से भरी हुई रंगीन सी...

Read more

होली गीत : फागुन मस्त महीना आयो

सब रंगों से सजी है थाली, सब रंगों से लहलाना सजन, होली में...

Read more

नदी पर सुंदर कविता : बहती होगी कहीं तो वह नदी !

कहीं तो रहती होगी वह नदी ! बह रही होगी चुपचाप, छा जाते...

Read more

हिन्दी कविता : रूठा बसंत

धरती निर्वसन सी अब क्यों दिखती…, खो गया कहां सौंदर्य...

Read more

हिन्दी कविता : राजा दशरथ के घर बाजे शहनाई रे

राजा दशरथ के घर बाजे शहनाई रे, गंगा मैया तोहे पियरी...

Read more

शिवाजी जयंती पर कविता - शिवाजी ने छत्रपति का सम्मान पाया

भारत में रही सदा सम्पन्नता, सभ्यता, संस्कृति, छल कपट से...

Read more

प्रेम की पाती प्रीतम के नाम

हर राज दिल का तुम्हें बताने को जी चाहता है हर इक सांस में...

Read more

श्रद्धांजलि लता दीदी : शांत गीत, शांत संगीत

शांत गीत, शांत संगीत, शांत हुई कोकिल स्वर। नाद ब्रह्म ...

Read more

लता मंगेशकर पर कविता : लता तुमसे रंग लौटते हैं संसार में

लता, तुम्हारे झिंझोड़ने से उठती है हर हिन्दुस्तानी...

Read more

वसंत पंचमी पर कविता : मन-मनोहारी हुई वसुंधरा

नीलाभ व्योम ,पुलकित है रोम , धरिणी लावण्य हुई सुंदरा। ...

Read more

वसंत पंचमी पर कविता : बसंत पहने स्वर्णहार

बसंत पहने स्वर्णहार, सुख बरसे द्वार-द्वार। चहुँओर नव...

Read more

नवगीत: क्यों बसंत गीत गाते हो

खो गयी कहीं है कोयलिया क्या तुमको है ये भास हुआ सूखे पोखर...

Read more

वसंत पंचमी को हुआ था कवि सूर्यकांत त्रिपाठी निराला का जन्म, पढ़ें उनकी 5 कविताएं

वसंत पंचमी के दिन हिन्दी जगत के प्रसिद्ध साहित्यकार...

Read more

वसंत पंचमी: वसंत ऋतु पर पढ़ें 2 कविताएं

वसंत पंचमी का मन मोहने वाला पर्व है। इसे ऋतुराज वसंत के...

Read more

प्रेम कविता : गीत बनकर वो आने लगे

गीत बनकर वो आने लगे, अधरों पर मुस्कुराने लगे राज अंखियन...

Read more

मेरे शब्द वहाँ अर्पित ना हो : हिंदी कविता

मेरे शब्द वहाँ अर्पित ना हो, जहाँ सुंदरता का बखान...

Read more

Latest 20