Home / Hindi Poems
Category: Hindi Poems

हिन्‍दी कविता : रावण दहन

बाहर के रावण को संहार किया बाणों से पर ये रावण न...

Read more

बिटिया दिवस पर सुंदर कविता : बेटियां विश्वास हैं, सत्य का प्रकाश हैं

बेटियों के दिन नहीं युग होते हैं बेटियां सृष्टि...

Read more

23 सितंबर जयंती विशेष : राष्ट्रकवि रामधारी सिंह 'दिनकर' की खास कविताएं

Ramdhari Singh Dinkar Famous Hindi Poet : हिंदी जगत के प्रमुख साहित्यकार, लेखक,...

Read more

मां दुर्गा पर कविता : मैया नवरातन में मुझ पर कृपा कीजिए

Poem on Navratri 2022 : नवरात्रि में व्रत रखकर मां दुर्गा की...

Read more

कविता : पर्वतराज हिमालय

वह अटल खड़ा है उत्तर में, शिखरों पर उसके, हिम किरीट।...

Read more

तिरंगे को सलाम :आज नमन तिरंगे को सभी बारम्बार करें...

साहस आत्मबलिदान स्वरूप रंग वीरों का केसरिया, हृदय से...

Read more

रक्षाबंधन पर मार्मिक कविता : मेरी एक बहन होती

रक्षा बंधन का त्योहार भाई-बहन का एक मीठा त्योहार है। यहां...

Read more

स्मृतियां भी मैं, जंगल भी मेरे ही भीतर!

नहीं टूटता कुछ भी एक बार में न अखरोट, न नारियल, न पहाड़ या...

Read more

हिन्‍दी कविता : क्या मैं स्त्री हूं

अलसुबह से देर रात मशीन सी भागती हूं मरे अस्तित्व के...

Read more

हिन्दी कविता : मेरे कान्हा की प्यारी मुरतिया

मेरे कान्हा की प्यारी मुरतिया, मन में बस जाए इसकी...

Read more

फादर्स डे : एक कन्फेशन

नहीं देख पाते हैं कई बार बहुत सारे चेहरे ठीक से या उनकी...

Read more

पप्पा ! तुम घबराना मत, मैं फिर भी जीत के आउंगी

फादर्स डे पर सहबा जाफरी की मर्मस्पर्शी कविता- पापा मेरी...

Read more

मेरी नज़र में... डॉ. रवीन्द्र नारायण पहलवान की कविता

रिश्तों की सामयिकता, उपयोगिता, आवश्यकता, उपादेयता,...

Read more

धर्म पर कबीर के तीखे दोहे आंखें खोल देंगे आपकी

Kabir ke dohe dharm par- कबीर, एक संत जो सालों पहले वह कह गए हैं जो आज भी...

Read more

बुरा जो देखन मैं चला, बुरा न मिलिया कोय : संत कबीरदासजी के 10 लोकप्रिय दोहे

14 जून 2022 बुधवार को ज्येष्ठ पूर्णिमा की पूर्णिमा के दिन संत...

Read more

14 जून को है कबीर जयंती, जानिए संत कबीर के गुरु पर रचे दोहे

-सतगुरु की महिमा अनंत, अनंत किया उपकार. लोचन अनंत उघाड़िया,...

Read more

पर्यावरण दिवस पर कविता : 5 जून को मैंने कोई कविता नहीं लिखी...

एक और पेड़- 5 जून मैंने कोई कविता नहीं लिखी...एक दिन में कुछ...

Read more

पर्यावरण दिवस पर कविता : इक पेड़ जो घबराकर रोया तो बहुत रोया

पर्यावरण दिवस पर कविता : हाथों में कुल्हाड़ी को देखा तो...

Read more

Hindi Journalism Day Poem: पत्रकार

Hindi Journalism Day Poem, कर्तव्यनिष्ठ पत्रकार अपना कर्म निभाते, वे भोर...

Read more

हिन्दी कविता : सिया जू की प्यारी मिथिला नगरिया

सिया जू की प्यारी मिथिला नगरिया, देखो बरात ले के आए...

Read more

International Tea Day : एक प्याली अमृत वाली

ख़ुशबू उड़ाती, रंगतवाली तेज़ चटकती अदरकवाली दूधो नहाती...

Read more

ताजा कविता : शिव को कौन रख सका बंदी, परम भक्त गण नंदी

शिव को कौन रख सका बंदी? देख रहा परमभक्त गण...

Read more

मां पर कविता : क्या है मां

अपने उजाले से जो पूरा संसार प्रकाशमय कर दे वह भुंवर की...

Read more

प्रभु त्रिवेदी के मौसमी दोहे

प्रभु त्रिवेदी के दोहे- खट्टी-खट्टी कैरियां, बनती वही...

Read more

प्रभु त्रिवेदी के मौसमी दोहे

प्रभु त्रिवेदी के दोहे- खट्टी-खट्टी कैरियां, बनती वही...

Read more

पृथ्वी दिवस पर कविता : धरती

आज फिर एक और ज़मीन के टुकड़े की किस्मत फूट गई,...

Read more

पृथ्वी दिवस पर कविता : सोचो क्यों कर जिए जा रहे हैं?

सोचो ज़रा अगर हम पेड़ होते जग को ठंडी छांह...

Read more

विश्व पृथ्वी दिवस पर कविता : दे दो उसे जीवनदान

परियोजनाओं के नाम पर, किया जा रहा पृथ्वी को परेशान। कोई...

Read more

Latest 20