Home / Articles / घर की खिड़कियां होना चाहिए किस दिशा में, जानिए 5 वास्तु टिप्स

घर की खिड़कियां होना चाहिए किस दिशा में, जानिए 5 वास्तु टिप्स

घर की खिड़की का ‍उचित दिशा में होना जरूरी है। यदि यह उचित दिशा में नहीं है तो यह जीवन में अचानक आने वाले धोखे, घटना-दुर्घटना और रोग-शौक को भी जन्म देने की संभावना बढ़ा सकती है। आओ जानते हैं खिड़की के लिए 5 वास्तु टिप्स। id="ram"> Last Updated: शनिवार, 15 जनवरी 2022 (12:49 IST) Vastu Tips For Window घर की खिड़की का ‍उचित दिशा में होना

  • Posted on 15th Jan, 2022 08:15 AM
  • 1319 Views
घर की खिड़कियां होना चाहिए किस दिशा में, जानिए 5 वास्तु टिप्स   Image
Last Updated: शनिवार, 15 जनवरी 2022 (12:49 IST)
For Window
घर की खिड़की का ‍उचित दिशा में होना जरूरी है। यदि यह उचित दिशा में नहीं है तो यह जीवन में अचानक आने वाले धोखे, घटना-दुर्घटना और रोग-शौक को भी जन्म देने की संभावना बढ़ा सकती है। आओ जानते हैं खिड़की के लिए 5 वास्तु टिप्स।


1. खिड़की की दिशा : पश्चिमी, वायव्य, पूर्वी और उत्तरी दीवारों पर खिड़कियों का निर्माण शुभ माना गया है। उत्तर दिशा में खिड़की होने से घर में धन और समृद्धि के द्वारा खुल जाते हैं। इस दिशा में घर के सबसे ज्यादा खिड़की, बालकनी और दरवाजे होना चाहिए। उत्तर दिशा का द्वार समृद्धि, प्रसिद्ध और प्रसन्नता लेकर आता है।

2. कैसी होना चाहिए खिड़की : खिड़की को भी अच्छे से सजाकर और पर्दे से ढंकी हुई रखें। खिड़की के आसपास बेलबुटे वाले चित्र होना चाहिए या रांगोली या मंडने वाली चित्रकारी होना चाहिए। खिड़किया दो पल्ले वाली होना चाहिए और इन्हें खोलने एवं बंद करने में आवाज नहीं होना चाहिए। पल्ले अंदर की ओर खुलना चाहिए बाहर की ओर नहीं।

3. खिड़की की संख्‍या : इस बात की जांच करें कि आपके घर में दरवाजे और खिड़कियां विषम संख्या में तो नहीं हैं। अगर ऐसा है तो किसी एक दरवाजे या खिड़की को बंद कर दें और उनकी संख्या को सम कर दें।

4. द्वारा के सामने और संधि भाग : यह भी ध्यान रखें कि मकान में खिड़कियां द्वार के सामने अधिकाधिक होनी चाहिए, ताकि चुम्बकीय चक्र पूर्ण होता रहे। खिड़कियां कभी भी सन्धि भाग में न लगवाएं।
5. उचित दिशा में नहीं है खिड़कियां तो क्या करें :

पूर्व दिशा : घर की पूर्व में दरवाजा या खिड़की है तो हरे रंग या मिंट ग्रीन के पर्दे लगाना अच्छा माना जाता है।

आग्नेय कोण : घर के आग्नेय कोण में दरवाजा या खिड़की है तो पीले या नारंगी रंग के पर्दे लगा सकते हैं। कुछ परिस्थिति में लाल रंग, मेहरून, कैमल ब्राउन व सिंदूरी रंग का परदा भी लगा सकते हैं।
दक्षिण दिशा : घर की दक्षिण में दरवाजा या खिड़की है तो गाढ़े रंग में मोटे कपड़े के पर्दे तब लगाना चाहिए। यहां लाल, गहरे हरे रंग का उपयोग कर सकते हैं।

नैऋत्य कोण : घर के नैऋत्य कोण में दरवाजा या खिड़की है तो हल्का गुलाबी या नींबू जैसे पीले रंग के पर्दे लगा सकते हैं।

पश्‍चिम दिशा : घर की पश्‍चिम दिशा में दरवाजा या खिड़की है तो सफेद और नीले रंग के पर्दे लगा सकते हैं।
वायव्य कोण : घर के वायव्य कोण में दरवाजा या खिड़की है तो हल्का नीला, स्लेटी व बैंगनी रंग का परदा लगा सकते हैं।

उत्तर दिशा : घर की उत्तर दिशा में दरवाजा या खिड़की है तो स्काई ब्लू या सफेद रंग के पतले पर्दे लगा सकते हैं।

ईशान दिशा : घर की उत्तर दिशा में दरवाजा या खिड़की है तो मोटे पर्दे नहीं होना चाहिए यहां हल्के या पतले कपड़े के पर्दे होना चाहिए। रंगों में हल्का पीला, नारंगी, सफेद, क्रीम, गुलाबी जैसे साफ्ट रंग होना चाहिए। हरा, नीला और बैंगनी रंगे के पर्दे भी लगा सकते हैं।

Latest Web Story

Latest 20 Post