भारत को 7 विकटों से हराकर दक्षिण अफ्रीका ने 2-1 से जीती टेस्ट सीरीज

भारत को 7 विकटों से हराकर दक्षिण अफ्रीका ने 2-1 से जीती टेस्ट सीरीज   Image

दोनों पारियों में बहूमूल्य अर्धशतक बनाने वाले कीगन पीटरसन की बल्लेबाजी की बदौलत दक्षिण अफ्रीका ने केपटाउन में खेले गए तीसरे टेस्ट में भारत को 7 विकेट से हराकर 2-1 से सीरीज जीत ली। id="ram"> Last Updated: शुक्रवार, 14 जनवरी 2022 (18:07 IST) केपटाउन: दक्षिण अफ्रीका ने अपने अनुशासित और

Last Updated: शुक्रवार, 14 जनवरी 2022 (18:07 IST)
केपटाउन: दक्षिण अफ्रीका ने अपने अनुशासित और उत्कृष्ट प्रदर्शन से दुनिया की नंबर एक टीम भारत का ‘अंतिम किला फतह’ करने का सपना दुस्वप्न में बदलकर तीसरे और अंतिम टेस्ट क्रिकेट मैच में चौथे दिन शुक्रवार को यहां सात विकेट से जीत दर्ज करके श्रृंखला 2-1 से अपने नाम की।

दक्षिण अफ्रीका के सामने 212 रन का लक्ष्य था जो उसने तीन विकेट खोकर हासिल किया। इसमें (113) गेंदों पर 82 रन ने महत्वपूर्ण भूमिका निभायी। उन्होंने तीसरे दिन कप्तान डीन एल्गर (30) के साथ 78 रन की साझेदारी करके मजबूत नींव रखी थी।

ALSO READ:

कोहली के स्टंप माइक पर चिल्लाने को गंभीर ने कहा बचकाना, कहा ऐसे बनोगे रोल मॉडल?

पीटरसन ने चौथे दिन सुबह रॉसी वान डर डुसेन (नाबाद 41) के साथ 52 रन जोड़कर भारत की उम्मीदों पर पानी फेरा। रही सही कसर वान डर डुसेन और तेम्बा वावुमा (नाबाद 32) के बीच 57 रन की अटूट साझेदारी ने पूरी कर दी।

भारत के पास दक्षिण अफ्रीका में पहली बार श्रृंखला जीतने का बेहतरीन मौका था। उसने सेंचुरियन में पहला टेस्ट मैच 113 रन से जीतकर शानदार शुरुआत की थी लेकिन जोहानिसबर्ग में दूसरा मैच सात विकेट से हार गया था। इस तरह से भारत ने सातवीं बार दक्षिण अफ्रीका में टेस्ट श्रृंखला गंवायी। इस बीच उसने एक बार 2010-11 में श्रृंखला 1-1 से बराबर की थी।

आस्ट्रेलिया और इंग्लैंड को उसकी धरती पर हराने के बाद भारत को दक्षिण अफ्रीका में अंतिम किला फतह करना था लेकिन उसे उसके ‘मजबूत बल्लेबाजी क्रम’ ने नीचा दिखाया। भारत ने पहली पारी 223 रन बनाकर दक्षिण अफ्रीका को 210 रन पर रोक दिया लेकिन ऋषभ पंत के नाबाद 100 रन के बावजूद वह दूसरी पारी में 198 रन ही बना सका। इससे गेंदबाजों के सामने बचाव के लिये बड़ा स्कोर नहीं था।

यह श्रृंखला विश्व टेस्ट चैंपियनशिप के अंतर्गत खेली गयी थी जिसमें प्रतिशत अंकों के आधार पर भारत पांचवें स्थान पर खिसक गया है जबकि दक्षिण अफ्रीका चौथे स्थान पर पहुंच गया है।
पीटरसन और वान डर डुसेन ने सुबह के सत्र में अच्छी बल्लेबाजी करके दक्षिण अफ्रीका के लिये काम आसान किया। पीटरसन ने अपनी पारी में 10 चौके लगाये जबकि वान डर डुसेन ने संयम की प्रतिमूर्ति बनकर क्रीज संभाले रखी। उन्होंने 95 गेंदों का सामना किया।

बावुमा ने अपनी फार्म बरकरार रखी और कुछ करारे शॉट जमाये। उन्होंने अपनी 58 गेंद की पारी में पांच चौके लगाये जिसमें रविचंद्रन अश्विन पर लगाया गया विजयी चौका भी शामिल है।चेतेश्वर पुजारा ने इस बीच पीटरसन का स्लिप में आसान कैच छोड़ा जिससे भारत की परेशानियां बढ़ी। तब बल्लेबाज 59 रन पर था और इसके बाद उन्होंने कुछ चौके जड़कर भारतीयों पर दबाव बनाया।

जसप्रीत बुमराह और मोहम्मद शमी के पहले स्पेल को खेलना चुनौती थी लेकिन पीटरसन और वान डर डुसेन ने कुछ बेहतरीन गेंदों का सामना करने के बावजूद क्रीज संभाले रखी।इनका पहला स्पेल निकल जाने के बाद उन्होंने उमेश यादव को निशाने पर रखा तथा ऑफ साइड में कुछ खूबसूरत चौके लगाये। इस कारण विराट कोहली ने क्षेत्ररक्षण छितरा दिया जिससे बल्लेबाजों को एक दो रन लेने में आसानी हुई।

वह शार्दुल ठाकुर थे जिनकी अंदर आती गेंद पीटरसन के बल्ले के अंदरूनी किनारे से लगकर विकेटों में समा गयी। इसके बाद हालांकि वान डर डुसेन और तेम्बा वावुमा ने भारतीयों को कोई मौका नहीं दिया। पीटरसन दक्षिण अफ्रीका की जीत के नायक रहे। उनके पास तकनीकी के साथ आवश्यक धैर्य भी है जो शीर्ष स्तर की क्रिकेट के लिये जरूरी होता है।

भारत ने सेंचुरियन में पहला टेस्ट मैच 113 रन से जीतकर शानदार शुरुआत की थी लेकिन वह जोहानिसबर्ग में दूसरा मैच सात विकेट से हार गया था। इस तरह से भारत ने सातवीं बार दक्षिण अफ्रीका में टेस्ट श्रृंखला गंवायी।
दोनों टीम के बीच अब 19 जनवरी से तीन मैचों की एकदिवसीय श्रृंखला खेली जाएगी।(भाषा)

About author
You should write because you love the shape of stories and sentences and the creation of different words on a page.