पॉजिटिव कोविड मामलों की सूचना नहीं देने पर जुर्माने के प्रावधान से जुड़ी समस्याएं

पॉजिटिव कोविड मामलों की सूचना नहीं देने पर जुर्माने के प्रावधान से जुड़ी समस्याएं   Image

केंसिंगटन (ऑस्ट्रेलिया)। इस सप्ताह एनएसडब्ल्यू सरकार ने फैसला किया कि रैपिड एंटीजन टेस्ट करवाने के बाद कोविड-19 पॉजिटिव आने वाले किसी भी व्यक्ति को अपने टेस्ट के नतीजे (सर्विस एनएसडब्ल्यू ऐप या वेबसाइट के माध्यम से) की सूचना देनी होगी। ऐसा नहीं करने वाले पर 1,000 डॉलर का जुर्माना लग सकता है। id="ram"> Last Updated: शुक्रवार, 14 जनवरी 2022 (17:08 IST) केंसिंगटन (ऑस्ट्रेलिया)। इस सप्ताह

Last Updated: शुक्रवार, 14 जनवरी 2022 (17:08 IST)
केंसिंगटन (ऑस्ट्रेलिया)। इस सप्ताह एनएसडब्ल्यू सरकार ने फैसला किया कि रैपिड एंटीजन टेस्ट करवाने के बाद कोविड-19 पॉजिटिव आने वाले किसी भी व्यक्ति को अपने टेस्ट के नतीजे (सर्विस एनएसडब्ल्यू ऐप या वेबसाइट के माध्यम से) की सूचना देनी होगी। ऐसा नहीं करने वाले पर 1,000 डॉलर का जुर्माना लग सकता है।

नया नियम 12 जनवरी से लागू हुआ (1 सप्ताह की छूट अवधि होगी)। पहले 24 घंटों में 80,000 से अधिक लोगों ने सकारात्मक परीक्षण दर्ज किए (1 जनवरी से दर्ज)। एक मायने में यह बहुत है। लेकिन चूंकि हमें किए गए परीक्षणों की कुल संख्या के बारे में कोई जानकारी नहीं है। सकारात्मक परिणाम की संख्या को छोड़ भी दें तो इसे जांचना मुश्किल है।

जुर्माने का खतरा कई सवाल उठाता है। पहली बात यह है कि सरकार को कैसे पता चलेगा कि आप हैं और आपने इसकी सूचना नहीं दी है? बुधवार को एनएसडब्ल्यू प्रीमियर डोमिनिक पेरोटेट ने स्वीकार किया कि इसे लागू करना कठिन होगा। यह कहते हुए कि राज्यभर में स्पष्ट रूप से ऐसे क्षेत्र हैं, जहां ऐसे कानून हैं जिन्हें दूसरों की तुलना में लागू करना कठिन है। यह स्पष्ट रूप से एक है जिसे लागू करना कठिन होगा। इसके बारे में कोई संदेह नहीं है।
इसे देखते हुए यह जानना मुश्किल है कि इस तरह का दंड घोषित करने का क्या मतलब है। वास्तव में आर्थिक सिद्धांत और व्यवहार अनुसंधान दोनों ही यह सुझाव देते हैं कि यह नियम अपने उद्देश्य को हासिल नहीं कर पाएगा।

1. जुर्माना एक हतोत्साह के रूप में कार्य करता है : अर्थशास्त्री इन नियमों को अनुबंध सिद्धांत के लैंस के माध्यम से देखते हैं। नियम प्रोत्साहन पैदा करते हैं, जो कुछ व्यवहारों को प्रोत्साहित या हतोत्साहित करते हैं। इस मामले में मान लीजिए कि आप कोरोना पॉजिटिव आते हैं। यदि आप इसके परिणाम के रूप में अपने आप को अलग-थलग रखते हैं, क्योंकि नियमों के बिना भी ऐसा करना सही है तो सच्चाई से परिणाम की सूचना देने पर आपको कोई नतीजा नहीं भुगतना पड़ता है (जब तक कि यह करना आसान है, जो कि अधिकांश लोगों के लिए है)।
लेकिन अगर आप खुद को अलग-थलग नहीं करेंगे तो परिणाम के बारे में सच्चाई से सूचना देने का क्या परिणाम होगा। एनएसडब्ल्यू में आपको कोविड-19 का निदान होने पर आत्मपृथक करने के दायित्वों का पालन करने में विफल रहने पर 5,000 डॉलर के जुर्माने का सामना करना पड़ता है। अब यह आप पर है कि आप परिणाम के संबंध में सूचना न देकर 1,000 डॉलर के जुर्माने की कम संभावना या अलग-थलग करने में विफल रहने पर 5,000 डॉलर के जुर्माने की उच्च संभावना को चुनते हैं तो ऐसे में एक व्यक्ति टेस्ट कराने के प्रति ही हतोत्साहित होता है, जो कि आखिरकार अधिकांश के लिए वैकल्पिक है। इसका मतलब है कि कम परीक्षण किए जाएंगे, उसके विपरीत जो अधिकारी चाहते हैं।
2. जुर्माना अच्छे व्यवहार को समाप्त कर सकता है : हॉर्वर्ड के दार्शनिक माइकल सैंडल जैसे कुछ विद्वानों का तर्क है कि चीजों पर 1 डॉलर का मूल्य लगाने से लोग उनके बारे में सौदेबाजी के तरीके से सोचने लगते हैं। नोस्टैंडिंग जोन में वाहन खड़ा करना अब गलत नहीं है, इसके लिए बस एक तरह का शुल्क है। दूसरे शब्दों में जुर्माना नागरिक गुणों को नष्ट कर सकता है। इसका एक उत्कृष्ट उदाहरण व्यावहारिक अर्थशास्त्री उरी गनीजी और एल्डो रुस्तिचिनी द्वारा माता-पिता को अपने बच्चों को समय पर बाल देखभाल केंद्रों से लेने के लिए प्रोत्साहित करने के तरीकों पर एक अध्ययन से आता है।
माता-पिता के देर से आने का मतलब था कि स्टाफ को देर तक रुकना पड़ेगा। अध्ययन में देर से पिकअप को रोकने के लिए जुर्माना लगाने वाले कुछ केंद्रों को शामिल किया गया। लेकिन जुर्माना वास्तव में अधिक देर से पिकअप का कारण बना। माता-पिता अब इतना दोषी महसूस नहीं करते थे। समय पर होना अब एक सामाजिक मानदंड नहीं रह गया था। उन्हें लगता था कि अगर वह समय पर आने के नियम की अवहेलना कर रहे हैं तो जुर्माना भरकर उसकी भरपाई कर रहे हैं। तो यह इस सप्ताह के 1,000 डॉलर के जुर्माने के नियम के साथ भी हो सकता है। पकड़े जाने की संभावना नहीं होने की स्थिति में कुछ लोग जुर्माने को कोई महत्व नहीं देंगे।
3. जुर्माना कानून का मजाक बना सकता है : सकारात्मक आरएटी परीक्षणों की सूचना देने में विफल रहने पर 1,000 डॉलर के जुर्माने के बारे में अंतिम विचार उन कानूनों की समस्या से संबंधित है जिन्हें लागू नहीं किया जा सकता है। एनएसडब्ल्यू सरकार ने माना कि नए नियम की निगरानी करना मुश्किल होगा और यह ज्यादातर मैसेजिंग के बारे में है। उपभोक्ता सेवा मंत्री के अनुसार अगर हमने इस पर जुर्माना नहीं लगाया तो लोग कहेंगे कि आप इसे गंभीरता से नहीं ले रहे हैं। लेकिन यह सिर्फ कानून को मजाक में बदलने जैसा है। कानूनों का खुलेआम मजाक किया जाना कानून के शासन को ही नुकसान पहुंचाता है।
नियम ठीक करना : ये 3 पूरक दृष्टिकोण इस बात की ओर इशारा करते हैं कि एक सकारात्मक रैपिड एंटीजन परीक्षण की सूचना देने में विफल रहने वाले व्यक्ति पर 1,000 डॉलर का जुर्माना लगाना अपने आप में एक गलत विचार है। लोगों के लिए सही काम करना सुविधाजनक बनाना अच्छा है (यही सेवा एनएसडब्ल्यू ऐप करता है)। लोगों को सही काम करने के लिए प्रोत्साहित करना अच्छा है।

यह वास्तव में अच्छा होगा यदि बहुत सारे आरएटी उपलब्ध हों (आदर्श रूप से मुफ्त या इसके करीब) ताकि लोगों के पास खुद को, अपने परिवार और अपने समुदायों को सशक्त बनाने और उनकी रक्षा करने के लिए जानकारी हो। यह इनमें से कुछ भी नहीं करता है इसलिए ऐसा नियम बनाना गलत है, जो कानून का उपहास उड़ाए और जिससे फायदे की बजाय नुकसान होने की अधिक आशंका हो।

About author
You should write because you love the shape of stories and sentences and the creation of different words on a page.