Pro Kabaddi League: रोमांचक अंदाज में जयपुर ने रोका दिल्ली का विजयी रथ

Pro Kabaddi League: रोमांचक अंदाज में जयपुर ने रोका दिल्ली का विजयी रथ   Image

दबंग दिल्ली केसी अब वीवो प्रो कबड्डी लीग (पीकेएल) के आठवें सीजन की एकमात्र अजेय टीम नहीं रही। इसका कारण यह है कि लीग के 46वें मुकाबले में जयपुर पिंक पैंथर्स ने उसे 30-28 के अंतर से हरा दिया। id="ram"> पुनः संशोधित मंगलवार, 11 जनवरी 2022 (14:13 IST) बेंगलुरू: दबंग दिल्ली केसी अब वीवो प्रो

पुनः संशोधित मंगलवार, 11 जनवरी 2022 (14:13 IST)
बेंगलुरू: दबंग दिल्ली केसी अब वीवो (पीकेएल) के आठवें सीजन की एकमात्र अजेय टीम नहीं रही। इसका कारण यह है कि लीग के 46वें मुकाबले में जयपुर पिंक पैंथर्स ने उसे 30-28 के अंतर से हरा दिया।

इस हार के बावजूद दिल्ली अंक तालिका में शीर्ष पर विराजमान हैं। यह मैच एक और कारण से याद दिया जाएगा। लगातार सात मैचों में सुपर-10 पूरा करने वाले दिल्ली के नवीन एक्सप्रेस और जयपुर के अर्जुन देसवाल 10 अंकों के मैजिक फिगर को नहीं छू पाए। नवीन हालांकि पीकेएल में सबसे तेजी से 600 रेड प्वाइंट्स बनाने वाले खिलाड़ी जरूर बने।

रेड के दौरान चोटिल होने के बाद नवीन ने स्प्रे की और फिर रेड पर लौटकर पांच मिनट के खेल के बाद दिल्ली को 4-१ की लीड दिला दी। इस सीजन में लगातार 7 सुपर-10 कर चुके अर्जुन देसवाल ने डू ओर डाई रेड पर अपना 100 फीसदी रिकार्ड बरकरार रखते हुए खाता खोला। जयपुर के लिए सुपर टैकल आन था। नवीन रेड पर थे लेकिन वह लपक लिए गए। स्कोर 5-6 हो गया था। इसके बाद जयपुर ने रेड और डिफेंस में एक-एक अंक लेकर 7-6 की लीड ले ली। मंजीत छिल्लर ने हालांकि दीपक हुड्डा को डैश कर स्कोर 7-7 कर दिया। जयपुर के डिफेंस ने हालांकि नवीन को लगातार दूसरी बार आउट किया। टैकल के दौरान नवीन को सिर में चोट लगी और वह इलाज के लिए बाहर गए।

दिल्ली का डिफेंस गलतियों पर गलतियां कर रहा था। उसने देसवाल को लगातार दूसरा अंक दिया। जयपुर को 9-7 की मिल चुकी थी। हालांकि दिल्ली के डिफेंस ने इसके बाद दो अंक लेकर स्कोर 9-9 कर दिया। नवीन बाहर थे और आशू मलिक स्कोर नहीं कर पा रहे थे। हालांकि डू ओर डाई रेड पर दो अंक लेकर उन्होंने न सिर्फ दिल्ली को लीड दिलाई बल्कि नवीन को रिवाइव भी किया।
अगली डू ओर डाई रेड पर दीपक आए और दो अंक लेकर फिर स्कोर को बराबर कर दिया। नवीन के दो रेड खाली गए। आशू फिर डू ओर डाई रेड पर गए लेकिन लपक लिए गए। अब दीपक डू ओर डाई रेड पर थे। वह भी लपक लिए गए। पहले हाफ की समाप्ति तक स्कोर 12-12 रहा।

तीन रेड खाली जाने के बाद ब्रेक के बाद नवीन ने 53वें मैच में अपने करियर के 600 रेड प्वाइंट पूरे किए। वह प्रदीप नरवाल (63 मैच) को पीछे छोड़ सबसे तेजी से इस मील के पत्थर तक पहुंचे हैं। दिल्ली ने जल्द ही 15-13 की लीड ले ली। जयपुर के लिए सुपर टैकल आन था। नवीन ने जयपुर को आलआउट कर दिल्ली को 19-14 की लीड दिला दी। अगली रेड पर दीपक ने 900 रेड प्वाइंट्स पूरे किए और फिर साहुल ने विजय मलिक को लपक कर हाई-5 पूरा किया। यह जयपुर के किसी डिफेंडर का इस सीजन में पहला हाई-5 है। अपनी अगली रेड पर नवीन फिसले और लपक लिए गए। फिर साहुल ने विजय को टैकल किया। देसवाल ने अगली रेड पर संदीप नरवाल को आउट कर स्कोर 20-20 कर दिया।

दिल्ली के सुपर टैकल आन था। दीपक ने बैककिक पर अंक लेकर जयपुर को आगे कर दिया। सब्सीट्यूट नीरज नरवाल ने बोनस लेकर स्कोर फिर बराबर किया। अगली रेड पर आशू ने दो अंक लिए दिल्ली को लीड दिलाई। आशू ने देसवाल को सुपर टैकल कर नवीन को रिवाइव कर लीड 4 की कर दी। नवीन डू ओर डाई रेड पर साहुल द्वारा लपके गए लेकिन दीपक डू ओर डाई रेड पर दो अंक लेकर आए और स्कोर 24-२५ कर दिया। आशू अकेले खिलाड़ी बचे थे। वह रेड पर बोनस लेने के बाद लपक लिए गए। दीपक ने जयपुर को अंक दिलाया। स्कोर 28-26 था। नवीन अगली रेड पर पांचवीं बार लपके गए। जयपुर की लीड 3 की हो गई थी। आशू ने हालांकि अगली रेड पर एक अंक लिया।

दिल्ली बोनस देने के मूड में नहीं थी। उसने दीपक को निराश किया। 26 सेकेंड बचे थे और दिल्ली को एक रेड मिलनी थी। उसे जीत के लिए सुपर रेड और बराबरी के लिए दो अंक की जरूरत थी। आशू गए लेकिन संदीप ढुल ने उन्हें लपक लिया। जयपुर की जीत पक्की हो गई थी। दीपक अंतिम रेड पर डैश कर दिए गए लेकिन उनकी टीम जीत हासिल कर चुकी थी।(वार्ता)

About author
You should write because you love the shape of stories and sentences and the creation of different words on a page.