Home / Articles / महाराष्ट्र में शिंदे सरकार का एक माह, कब होगा कैबिनेट विस्तार?

महाराष्ट्र में शिंदे सरकार का एक माह, कब होगा कैबिनेट विस्तार?

महाराष्ट्र में शिंदे सरकार का एक माह, कब होगा कैबिनेट विस्तार?   Image
  • Posted on 30th Jul, 2022 06:06 AM
  • 1322 Views

महाराष्ट्र में बड़े पैमाने पर राजनीतिक उठापटक के बाद सत्ता में आई मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे के नेतृत्व वाली सरकार के गठन को शनिवार को एक महीना पूरा हो गया। सीएम शिंदे और डिप्टी सीएम देेवेंद्र फडणवीस ही सरकार चला रहे हैं। ऐसे में सवाल उठ रहे हैं कि राज्य में शिंदे सरकार का पहला कैबिनेट विस्तार कब होगा? - one month of shinde government in maharashtra id="ram"> पुनः संशोधित शनिवार, 30 जुलाई 2022 (11:22 IST) हमें फॉलो करें मुंबई। महाराष्ट्र में

पुनः संशोधित शनिवार, 30 जुलाई 2022 (11:22 IST)
हमें फॉलो करें
मुंबई। महाराष्ट्र में बड़े पैमाने पर राजनीतिक उठापटक के बाद सत्ता में आई मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे के नेतृत्व वाली सरकार के गठन को शनिवार को एक महीना पूरा हो गया। सीएम शिंदे और डिप्टी सीएम देेवेंद्र फडणवीस ही सरकार चला रहे हैं। ऐसे में सवाल उठ रहे हैं कि राज्य में शिंदे सरकार का पहला कब होगा?

शिंदे की अगुवाई में कई विधायकों के शिवसेना नेतृत्व के खिलाफ विद्रोह करने के 10 दिन बाद राज्य में नई सरकार का गठन हुआ था। शिंदे ने 30 जून को मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली थी। उसी समय वरिष्‍ठ भाजपा नेता देवेंद्र फडणवीस को भी उपमुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाई गई। तब से ही ये दोनों दिग्गज मिलकर राज्य में सरकार चला रहे हैं।

सत्ता में आने के बाद शिंदे सरकार ने मुंबई-अहमदाबाद बुलेट ट्रेन परियोजना के कार्य को तेजी से आगे बढ़ाया, जिसे उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली पिछली सरकार ने ठंडे बस्ते में डाल दिया गया था। दो सप्ताह पहले फडणवीस ने कहा था कि परियोजना में तेजी लाने के लिए सभी मंजूरी दे दी गई है।
गौरतलब है कि वर्तमान में शिंदे और फडणवीस ही कैबिनेट के सदस्य हैं। कैबिनेट विस्तार में देरी के कारण विपक्षी दलों को सरकार पर निशाना साधने का मौका मिल गया है।

कांग्रेस की राज्य इकाई के उपाध्यक्ष रत्नाकर महाजन ने कहा कि यह राज्य के इतिहास में पहली बार है कि दो सदस्यों का एक विशाल मंत्रिमंडल बाढ़, कुछ स्थानों पर बारिश की कमी और अन्य मामलों को संभाल रहा है।
उन्होंने कहा कि किसी राजनीतिक दल के लिए कभी इतनी दयनीय स्थिति नहीं रही कि वह एक महीने में किसी राज्य में पूर्ण मंत्रिमंडल नहीं बना पाया हो। इसके लिए भाजपा की अति महत्वाकांक्षी योजना को जिम्मेदार ठहराया जाना चाहिए।

40 विधायकों के अलावा पार्टी के 19 में से 12 लोकसभा सदस्यों ने भी शिवसेना नेतृत्व के खिलाफ बगावत कर दी है। सांसदों के अलग हुए समूह को लोकसभा अध्यक्ष ने मान्यता दी है, लेकिन शिवसेना ने मांग की है कि अध्यक्ष उन्हें अयोग्य घोषित कर दें।
शिंदे धड़ के मुख्य प्रवक्ता दीपक केसरकर ने कहा कि शिवसेना के विधायक विकास कार्यों में तेजी लाने के लिए कैबिनेट मंत्रियों की तुलना में जिला संरक्षक मंत्री बनने में अधिक रुचि रखते हैं। हालांकि, उन्होंने दावा किया कि विभागों के आवंटन को लेकर कोई विवाद नहीं है।

उन्होंने कहा, 'लंबे समय के बाद महाराष्ट्र को एक ऐसा मुख्यमंत्री मिला है,जो लोगों के लिए चौबीसों घंटे उपलब्ध है।'
शिवसेना के मुख्य प्रवक्ता और राज्यसभा सदस्य संजय राउत ने कहा, 'पिछले एक महीने से कोई सरकार अस्तित्व में नहीं है। इससे पहले कभी भी महाराष्ट्र की प्रतिष्ठा को इस तरह से कम नहीं किया गया। राज्य के सम्मान से समझौता किया गया। शिंदे और फडणवीस द्वारा ली गई शपथ अवैध है।'

उन्होंने कहा कि मंत्रिमंडल विस्तार में देरी का कारण शिवसेना के 16 बागी विधायकों की अयोग्यता पर उच्चतम न्यायालय में चल रही सुनवाई सहित कुछ भी हो सकता है।
राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के नेता और पूर्व गृह मंत्री दिलीप वालसे पाटिल ने कहा कि एक महीने बाद भी कैबिनेट बनाने में असमर्थता से पता चलता है कि राज्य में राजनीतिक स्थिति अब भी ठीक नहीं है।

उन्होंने कहा, 'राज्य के कई हिस्सों में बारिश और बाढ़ के कारण लोगों को मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है और चूंकि कोई कैबिनेट मंत्री और संरक्षक मंत्री नहीं हैं, इसलिए लोगों की समस्याओं की उपेक्षा हो रही है। महाराष्ट्र ने पहले कभी ऐसी स्थिति नहीं देखी है।' (इनपुट भाषा)

महाराष्ट्र में शिंदे सरकार का एक माह, कब होगा कैबिनेट विस्तार? View Story

Latest Web Story

Latest 20 Post