Home / Articles / बागी विधायकों से बोले संजय राउत, मुंबई आकर करो बात, शिवसेना MVA सरकार से बाहर आने को तैयार

बागी विधायकों से बोले संजय राउत, मुंबई आकर करो बात, शिवसेना MVA सरकार से बाहर आने को तैयार

मुंबई। शिवसेना नेता एकनाथ शिंदे के विद्रोह के बीच, पार्टी सांसद संजय राउत ने गुरुवार को कहा कि अगर असम में डेरा डाले हुए बागी विधायकों का समूह 24 घंटे में मुंबई लौटता है और मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के साथ मामले पर चर्चा करता है तो शिवसेना महाराष्ट्र में महा विकास आघाड़ी (MVA) सरकार छोड़ने के लिए तैयार है। - Maharashtra Political crises : sanjay raut says Shivsena ready to leave MVA id="ram"> Last Updated: गुरुवार, 23 जून 2022 (16:01 IST) हमें फॉलो करें मुंबई। शिवसेना नेता एकनाथ शिंदे

  • Posted on 23rd Jun, 2022 10:36 AM
  • 1056 Views
बागी विधायकों से बोले संजय राउत, मुंबई आकर करो बात, शिवसेना MVA सरकार से बाहर आने को तैयार   Image
Last Updated: गुरुवार, 23 जून 2022 (16:01 IST)
हमें फॉलो करें
मुंबई। शिवसेना नेता एकनाथ शिंदे के विद्रोह के बीच, पार्टी सांसद ने गुरुवार को कहा कि अगर असम में डेरा डाले हुए बागी विधायकों का समूह 24 घंटे में मुंबई लौटता है और मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के साथ मामले पर चर्चा करता है तो शिवसेना महाराष्ट्र में महा विकास आघाड़ी (MVA) सरकार छोड़ने के लिए तैयार है।

शिंदे वर्तमान में शिवसेना के 37 बागी विधायकों और नौ निर्दलीय विधायकों के साथ गुवाहाटी में डेरा डाले हुए हैं, जिसने पार्टी के नेतृत्व वाली महाराष्ट्र सरकार को संकट में डाल दिया है। एमवीए सरकार में NCP और कांग्रेस भी साझेदार हैं।

राउत ने कहा, 'आप कहते हैं कि आप असली शिवसैनिक हैं और पार्टी नहीं छोड़ेंगे। हम आपकी मांग पर विचार करने के लिए तैयार हैं, बशर्ते आप 24 घंटे में मुंबई वापस आएं और सीएम उद्धव ठाकरे के साथ इस मुद्दे पर चर्चा करें। आपकी मांग पर सकारात्मक रूप से विचार किया जाएगा। ट्विटर और व्हाट्सऐप पर चिट्ठी मत लिखिए।'
उन्होंने कहा, 'बागी, जो मुंबई से बाहर हैं, ने हिंदुत्व का मुद्दा उठाया है। अगर इन सभी विधायकों को लगता है कि शिवसेना को एमवीए से बाहर निकलना चाहिए, तो मुंबई वापस आने की हिम्मत दिखाएं। आप कहते हैं कि आपको सिर्फ सरकार के साथ परेशानी है और यह भी कहते हैं कि आप सच्चे शिवसैनिक हैं...आपकी मांग पर विचार किया जाएगा, लेकिन आएं और उद्धव ठाकरे से बात करें।'
मुख्यमंत्री ठाकरे ने बुधवार को शिंदे के विद्रोह के बीच शीर्ष पद छोड़ने की पेशकश की थी और बाद में उपनगरीय बांद्रा में अपने परिवारिक घर जाने से पहले दक्षिण मुंबई में अपना आधिकारिक आवास भी खाली कर दिया था। (भाषा)

Latest Web Story

Latest 20 Post