Home / Articles / महालक्ष्मी के 10 प्राचीन शुभ मंत्र : संकटों का करेंगे अंत

महालक्ष्मी के 10 प्राचीन शुभ मंत्र : संकटों का करेंगे अंत

महालक्ष्मी के 10 प्राचीन शुभ मंत्र : संकटों का करेंगे अंत   Image
  • Posted on 22nd Sep, 2022 01:41 AM
  • 1500 Views

भार‍त में विशेष तौर पर मनाया जाने वाला श्री महालक्ष्मी व्रत का प्रारंभ 3 सितंबर 2022 हो गया है। कहा गया है कि इस व्रत को करने से व्रत करने वालों की सभी मनोकामनाएं पूरी हो जाती हैं। 16 दिनों तक चलने वाले इस व्रत धन की देवी महालक्ष्म‍ी जी का पूजन तथा विशेष मंत्रों का जाप किया जाता है। इन मंत्रों को पढ़ने से जीवन के संकट, कष्ट दूर होते हैं। यहां पढ़ें 10 खास मंत्र- Devi Mahalaxmi Mantra - Mahalaxmi Vrat Mantra 2022 id="ram"> हमें फॉलो करें इन दिनों महालक्ष्मी पर्व जारी है। अगर आप भी अपने जीवन के

इन दिनों महालक्ष्मी पर्व जारी है। अगर आप भी अपने जीवन के सभी संकटों का अंत करना चाहते हैं तो पढ़ें देवी महालक्ष्मी के दस प्राचीन शुभ मंत्र।


1. ॐ लक्ष्मी नम:।

2. ॐ ह्रीं श्रीं क्लीं महालक्ष्म्यै नम:।

3. ॐ लक्ष्मी नारायण नम:।

4. ॐ लक्ष्मी नारायण नमो नम:।
5. 'ॐ नमो भाग्य लक्ष्म्यै च विद्महे अष्ट लक्ष्म्यै च धीमहि तन्नो लक्ष्मी प्रचोद्यात'।

6. ॐ श्रीं ह्रीं श्रीं कमले कमलालये प्रसीद प्रसीद श्रीं ह्रीं श्रीं महालक्ष्म्यै नमः।

7. ॐ ह्रीं ह्रीं श्री लक्ष्मी वासुदेवाय नम:।

8. ॐ ह्रीं श्री क्रीं क्लीं श्री लक्ष्मी मम गृहे धन पूरये, धन पूरये, चिंताएं दूरये-दूरये स्वाहा:।

9. ॐ लक्ष्मी नमो नम:।


महालक्ष्मी के 10 प्राचीन शुभ मंत्र : संकटों का करेंगे अंत View Story

Latest Web Story

Latest 20 Post