Home / Articles / बुद्ध पूर्णिमा 16 मई को, साल का पहला चंद्रग्रहण, कहां, क्यों, कैसे पढ़ें हर जानकारी

बुद्ध पूर्णिमा 16 मई को, साल का पहला चंद्रग्रहण, कहां, क्यों, कैसे पढ़ें हर जानकारी

Chandra Grahan 2022: 30 अप्रैल को साल का पहला सूर्यग्रहण लगा था अब साल का पहला चंद्रग्रहण 16 मई 2022 सोमवार को लगने वाला है। इसके बाद दूसरा सूर्यग्रहण 25 अक्टूबर को और दूसरा चंद्रग्रहण 8 नवंबर को रहेगा। आओ वर्ष 2022 के पहले चंद्रग्रहण की खास बातें। - Lunar eclipse 2022 kab hai id="ram"> Last Updated: मंगलवार, 10 मई 2022 (17:32 IST) Chandra Grahan 2022: 30 अप्रैल को साल का पहला सूर्यग्रहण लगा था

  • Posted on 10th May, 2022 12:10 PM
  • 1208 Views
बुद्ध पूर्णिमा 16 मई को, साल का पहला चंद्रग्रहण, कहां, क्यों, कैसे पढ़ें हर जानकारी   Image
Last Updated: मंगलवार, 10 मई 2022 (17:32 IST)
Chandra Grahan 2022: 30 अप्रैल को साल का पहला सूर्यग्रहण लगा था अब साल का पहला चंद्रग्रहण 16 मई 2022 सोमवार को लगने वाला है। इसके बाद दूसरा सूर्यग्रहण 25 अक्टूबर को और दूसरा चंद्रग्रहण 8 नवंबर को रहेगा। आओ वर्ष 2022 के पहले चंद्रग्रहण की खास बातें।


कब दिखाई देगा चंद्रग्रहण : वर्ष 2022 का चंद्रग्रहण 16 मई 2022 को वैशाख पूर्णिमा के दिन दिखाई देगा। इस दिन बुद्ध पूर्णिमा भी रहेगी। वैशाख पूर्णिमा के दिन पवित्र नदियों में स्नान, दान और तप करने की विशेष परंपरा होती है।

ब्लड चंद्रग्रहण : इस ग्रहण चो ब्लड चंद्रग्रहण कहा जा रहा है जो कि पूर्ण चंद्रग्रहण होगा।
कहां-कहां दिखाई देगा चंद्रग्रहण : बताया जा रहा है कि यह चंद्रग्रहण दक्षिणी-पश्चिमी यूरोप, दक्षिणी अमेरिका, पैसिफिक, अफ्रीका, उत्तरी अमेरिका, अटलांटिक, अंटार्कटिका, दक्षिणी-पश्चिमी एशिया, हिन्द महासागर में दिखाई देगा। यह ग्रहण भारत में नहीं दिखाई देगा।
क्या समय रहेगा चंद्रग्रहण का (chandra grahan 2022 in india date and time) : भारतीय समयानुसार यह प्रात: 08:59 से प्रारंभ होकर 10:23 तक रहेगा। कहीं कहीं पर यह प्रात: 07.02 से शुरू होकर दोपहर 12.20 तक रहेगा। स्थानीय समयानुसार इसके समय में भेद रहेगा।

सूतककाल : भारत में इस गर्हण का सूतककाल मान्य नहीं है क्योंकि यह भारत में नहीं दिखाई देगा परंतु हां दिखाई देगा वहां चंद्रग्रहण के प्रारंभ होने के 9 घंटे पूर्व सूतककाल प्रारंभ हो जाएगा। ग्रहण में लगने वाला सूतक काल एक अशुभ अवधि होती है, जो ग्रहण से पूर्व लगता है और ग्रहण समाप्ति के साथ ही खत्म होता है।
: सूर्य और चंद्रमा के बीच धरती आ जाती है तब धरती की छाया चंद्रमा पर पड़ती है। यही चंद्रग्रहण है।

राशि और नक्षत्र : वैदिक पंचांग की गणना के अनुसार साल का पहला चंद्र ग्रहण 16 मई को वृश्चिक राशिऔर विशाखा नक्षत्र में लगेगा। 12 राशियों में से मेष, सिंह और धनु राशि के जातकों पर इस ग्रहण का प्रभाव काफी सकारात्मक पड़ेगा।

Latest Web Story

Latest 20 Post