Home / Articles / Koo App पर यूजर्स की संख्या 1 करोड़ के पार, अगले साल तक 10 करोड़ तक पहुंचे का है टार्गेट

Koo App पर यूजर्स की संख्या 1 करोड़ के पार, अगले साल तक 10 करोड़ तक पहुंचे का है टार्गेट

Koo App को लोग काफी पसंद कर रहे हैं। लॉन्च होने के 15 से 16 महीनों के बीच Twitter के प्रतिद्वंदी Koo ने 1 करोड़ यूजर का माइलस्टोन पार कर लिया है। इसमें से 85 लाख डाउनलोड्स इस साल फरवरी से अब तक हुए हैं। Koo ने एक करोड़ यूजर बेस का आंकड़ा छू लिया है। देसी माइक्रोब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म के को-फाउंडर

  • Posted on 04th Sep, 2021 03:50 AM
  • 1383 Views
Koo App पर यूजर्स की संख्या 1 करोड़ के पार, अगले साल तक 10 करोड़ तक पहुंचे का है टार्गेट Image

Koo ने एक करोड़ यूजर बेस का आंकड़ा छू लिया है। देसी माइक्रोब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म के को-फाउंडर ने कहा है कि अगले साल तक 10 करोड़ यूजर्स तक पहुंचने का लक्ष्य रखा है। कू के को-फाउंडर अप्रमेय राधाकृष्ण की मानें तो भले ही यूजर बेस में अच्छी-खासी बढ़ोतरी हुई हो, लेकिन प्लेटफॉर्म में अभी भी मार्केट के हिसाब से ग्रोथ नहीं है। उनकी मानें तो 2 फीसदी से भी कम इंटरनेट यूजर्स फिलहाल माइक्रो ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल खुद को एक्सप्रेस करने के लिए करते हैं। Also Read - Twitter ने लॉन्च किया Super Follow फीचर, अब यूजर्स कर पाएंगे अच्छी कमाई

राधाकृष्ण ने पीटीआई को बताया, ‘अगर आप सिर्फ अंग्रेजी की बात करेंगे तो, भारत में माइक्रोब्लॉगिंग सिर्फ 2 फीसदी यूजर्स तक की सीमित है। फैक्ट ये है कि माइक्रोब्लॉगिंग उनकी आवाज को देश में किसी भी कोने तक पहुंचा सकती है, लेकिन 98 फीसदी इंटरनेट यूजर्स को इसके बारे में कोई जानकारी नहीं है। Koo उसी मार्केट को देख रही है और उस पर फोकस कर रही है।’ Also Read - Twitter Spaces के लिए आएंगे ये 4 नए फीचर्स, मिलेगा Replay का ऑप्शन

Koo की नजर बड़े मार्केट पर

लॉन्च होने के 15 से 16 महीनों के बीच Twitter के प्रतिद्वंदी Koo ने 1 करोड़ यूजर का माइलस्टोन पार कर लिया है। इसमें से 85 लाख डाउनलोड्स इस साल फरवरी से अब तक हुए हैं। राधाकृष्ण ने कहा, ‘लगभग 70 करोड़ लोग आज के समय में इंटरनेट इस्तेमाल कर रहे हैं और इन सभी लोगों के पास अब विकल्प है। Koo पर ये लोग अपनी बात रख सकते हैं।’ Also Read - Twitter DM यानी डायरेक्ट मैसेज में आएंगे 4 नए फीचर्स, डिजाइन और कलर में भी होगा बदलाव

बता दें कि Koo ऐप को पिछले साल यानी 2020 में लॉन्च किया गया है। यह एक माइक्रोब्लॉगिंग (ट्विटर जैसा) ऐप है, जो हिंदी, तमिल, तेलुगू और कन्नड़ भाषाओं में उपलब्ध है। ऐप जल्द ही कई अन्य भाषाओं में भी उपलब्ध होगा। प्लेटफॉर्म पर यूजर्स 400 कैरेटर्स तक का मैसेज या एक मिनट तक का वीडियो शेयर कर सकते हैं। यह ऐप गूगल प्ले स्टोर और एप्पल ऐप स्टोर दोनों पर उपलब्ध है। साथ ही इसके वेब वर्जन को भी यूज किया जा सकता है। Aprameya Radhakrishna और Mayank Bidawatka इस ऐप के फाउंडर हैं। इस ऐप का फोकस स्थानीय भाषा पर है।

Koo App पर यूजर्स की संख्या 1 करोड़ के पार, अगले साल तक 10 करोड़ तक पहुंचे का है टार्गेट View Story

Latest Web Story

Latest 20 Post