Home / Articles / फर्जी कॉल मैसेज से Online Fraud पर लगेगी लगाम, जानें क्या है सरकार की प्लानिंग

फर्जी कॉल मैसेज से Online Fraud पर लगेगी लगाम, जानें क्या है सरकार की प्लानिंग

देश में ऑनलाइन फर्जीवाड़े की बढ़ती घटनाओं पर केंद्र सरकार लगाम लगाने की तैयारी कर रही है। केंद्रीय सूचना और प्रौद्योगिकी मंत्री रवि शंकर प्रसाद ने बताया कि सरकार फेक कॉल या मैजेस के जरिए जालसाजी करने वालों पर शिकंजा कसने के लिए एक डाटा इंटेलीजेंस यूनिट स्थापित करने के लिए काम कर रही है जो इस तरह की घटनाएं करने वालों पर पुलिस और दूसरी एजेंसियों के साथ मिल कर काम करेगी। फर्जी कॉल, मैसेज के जरिए देश में हो रहे आनलाइन फर्जीवाड़े पर सरकार सख्ती के मूड में है।

  • Posted on 04th Sep, 2021 05:12 AM
  • 1144 Views
फर्जी कॉल मैसेज से Online Fraud पर लगेगी लगाम, जानें क्या है सरकार की प्लानिंग Image

फर्जी कॉल, मैसेज के जरिए देश में हो रहे आनलाइन फर्जीवाड़े पर सरकार सख्ती के मूड में है। साइबर क्राइम की घटानाओं पर रोक लगाने के लिए सरकार डाटा इंटेलीजेंस यूनिट (Data Intelligence Unit) लाने की तैयारी कर रही है। यह जानकारी सोमवार को केंद्रीय सूचना और प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने संसद में यह जानकारी दी है। इस डाटा यूनिट की मदद से जालसाजों पर कानूनी कार्रवाई की जा सकेगी। फर्जी कॉल के जरिए ऑनलाइन धोखाधड़ी का यह कारोबार में मेवात और जमताड़ा पहले पायदान पर हैं। Also Read - Cyber Crime रोकने के लिए गृह मंत्रालय ने जारी किया नेशनल हेल्पलाइन नंबर, जानें किस तरह करेगा काम?

ऑनलाइन फर्जीवाड़े की बढ़ती शिकायतों के चलते केंद्रीय मंत्री रवि शंकर प्रसाद ने सोमवार को एक बैठक की जिसमें उन्होंने जानकारी दी गई की जालसाज लोगों को कॉल मैसेज कर उनसे बैंकिंग डिटेल्स मांग कर उनके साथ फर्जीवाड़ा करते हैं। केंद्र सरकार ने बताया कि यह डाटा इंटेलीजेंस यूनिट लोकल पुलिस,  बैंक और सर्विस प्रोवाइडर ऐजेंसियों के साथ मिलकर फेक कॉल या मैसेज कर लोगों के साथ फर्जीवाड़ा करने वालों पर शिकंजा कसेगी। Also Read - Google पर ये चीजें कभी न करें Search, पड़ेगा पछताना

कैसे काम करेगा डाटा इंटेलीजेंस यूनिट

ऑनलाइन धोखाधड़ी पर लगाम लगाने के लिए सरकार की ओर से आ रही डिजिटल इंटेलिजेंस यूनिट एक नोडल एजेंसी के तौर पर काम करेगी। जो अलग-अलग एंजेसी जैसे पुलिस, साइबर सेल, बैंक, ऑनलाइन पेमेंट सर्विस प्रोवाइडर्स और टेलीकॉम कंपनियों के बीच मिलकर काम करेगी। ये आपस में मिलकर जालसाजों पर शिकंजा कसेंगे। अब तक ऑनलाइन फर्जीवाड़े के मामले पर पुलिस और दूसरी एजेंसियों के बीच सामंजस्य की कमी रहती थी जिसके चलते कार्रवाई नहीं की जा सकती है। यह डाटा यूनिट तमाम एजेंसियों के बीच सामंजस्य स्थापित करेगी।

Also Read - Valentine's Day online fraud: फर्जी वेबसाइट और ऑफर्स से रहें सावधान, इन बातों का रखें ध्यान

मेवात और जमताड़ा हैं नंबर 1

देश में फर्जी कॉल और मैसेज के जरिए लोगों के साथ ऑनलाइन फर्जीवाड़े के सबसे ज्यादा गिरोह हरियाणा के मेवात और झारखंड के जमताड़ा जिले में सक्रिय हैं। ये गिरोह देश के अलग-अलग हिस्सों के लोगों को कॉल-मैसेज कर उनकी बैंकिंग डिटेल्स मांग कर उनके साथ फर्जीवाड़ा करते हैं। इन फर्जी कॉल्स की शिकायत के बाद भी पुलिस और दूसरी एजेंसियों के बीच सामंजस्य की कमी के चलते इन गिरोह पर कार्रवाई नहीं हो पाती है। केंद्र सरकार का नया डाटा इंटेलीजेंस यूनिट सामंजस्य बना कर इन गिरोहों पर शिकंजा कसेगा।

फर्जी कॉल मैसेज से Online Fraud पर लगेगी लगाम, जानें क्या है सरकार की प्लानिंग View Story

Latest 20 Post