Home / Articles / App से पर्सनल लोन के 'खेल' पर लगेगी लगाम, Google ने बनाए कड़े नियम

App से पर्सनल लोन के 'खेल' पर लगेगी लगाम, Google ने बनाए कड़े नियम

Google ने भारत के Personal Loan Apps वालों के लिए कुछ कड़े नियम बनाए हैं और उन्हें 11 मई यानी आज से ही लागू कर दिया है। आइए हम आपको इन नए नियमों के बारे में बताते हैं। Google ने गूगल प्ले स्टोर की डेवलपर पॉलिजी को अपडेट किया है। गूगल ने ऐलान किया है कि अब भारत में

  • Posted on 12th May, 2022 17:00 PM
  • 1377 Views
App से पर्सनल लोन के 'खेल' पर लगेगी लगाम, Google ने बनाए कड़े नियम Image

Google ने गूगल प्ले स्टोर की डेवलपर पॉलिजी को अपडेट किया है। गूगल ने ऐलान किया है कि अब भारत में पर्सनल लोन देने वाले ऐप्स को अपने सभी जरूरी प्रमाण पत्र (Proof Certificate) को सब्मिट करना अनिवार्य होगा। गूगल की यह नई पॉलिसी आज यानी 11 मई से ही लागू होने जा रही है। Also Read - Google ने की कई सिक्योरिटी फीचर्स की घोषणा, इंटरनेट यूज करना होगा सुरक्षित

Google प्ले स्टोर पॉलिसी के अनुसार, Personal Loan Apps के जरिए कोई एक व्यक्ति, संगठन या ग्रुप किसी एक उपभोक्ता को उसके निजी काम के लिए पैसे उधार देता है। यह लोन किसी घर-संपत्ति, शिक्षा या किसी वस्तु के खरीद के लिए नहीं होता है। अब गूगल की नई पॉलिसी के अनुसार भारत, इंडोनेशिया और फिलीपिंस के पर्सनल लोन ऐप्स वालों को एडिशनल प्रूफ सब्मिट करने की जरूरत पड़ेगी। आइए हम आपको बताते हैं कि इन एडिशन प्रुफ में क्या-क्या होगा। Also Read - Google Translate में जुड़ी 24 नई भाषाएं, इसमें भोजपुरी और असमी भी हैं शामिल

गूगल के पांच नए नियम

पहला नियम: गूगल के नए नियमों के अनुसार भारत के पर्सनल लोन ऐप्स को अब अपना कंप्लीट डेकलेरेशन देना होगा और गूगल की ओर से ऐप चलाने के लिए सभी जरूरी डॉक्यूमेंट्स को सब्मिट करना होगा। Also Read - 6GB RAM और 128GB स्टोरेज और Live Translate फीचर के साथ लॉन्च हुआ Google Pixel 6A, यहां देखें कितना मस्त है इसका फर्स्ट लुक

दूसरा नियम: गूगल पर्सनल लोन ऐप को रिव्यू करेगा और उसके लिए ऐप को भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) का लाइसेंस भी सब्मिट करना होगा। गूगल अब बिना भारतीय रिज़र्व बैंक के लाइसेंस के बिना पर्सनल लोन ऐप्स को गूगल प्ले स्टोर में मान्यता नहीं देगा।

तीसरा नियम: भारत के पर्सनल लोन ऐप्स को अब अपने काम करने का पूरा तरीका गूगल को बताना होगा। अगर पर्सनल लोन ऐप्स वाले सीधे तौर पर पैसे उधार देने की गतिविधियों में शामिल नहीं हैं और सिर्फ रजिस्टर्ड गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों (NBFCs) या बैंकों द्वारा यूजर्स को लोन देने की सुविधा के लिए एक प्लेटफॉर्म प्रदान कर रहे हैं, तो आपको अपनी घोषणा (Declaration) में इसे सटीक रूप से दर्शाना होगा।

चौथा नियम: इसके अलावा Google ने नए नियमों के अनुसार, सभी रजिस्टर्ड एनबीएफसी और बैंकों के नाम ऐप के डिटेल में प्रमुखता से बताए जाने चाहिए।

पांचवा नियम: इसके अलावा पर्सनल लोन ऐप्स वालों को ये भी सुनिश्चित करना होगा कि उनके ऐप डेवलपर का नाम उनके डेकलेरेशन में दर्शाए गए रजिस्टर्ड बिसनेस के नाम से मिलता है। इसका मतलब कि डेवलपर अकाउंट और डेकलेरेशन में बिजनेस का नाम एक ही और रजिस्टर्ड होना चाहिए।

पर्सनल लोन ऐप्स की धोखाधड़ी पर लगेगी लगाम

आपको बता दें कि भारत में पर्सनल लोन ऐप्स के जरिए लोन देकर बहुत सारे फ्रॉड लोग आम यूजर्स के साथ धोखाधड़ी कर रहे हैं। पिछले कुछ महीनों में ऐसे बहुत सारे मामले सामने आए हैं, जिसमें लोग ऐसे ऐप्स से लोन लेकर बुरी तरह से फंस गए हैं। इन्हीं वजहों से अब भारतीय रिज़र्व बैंक और गूगल दोनों ने इन ऐप्स की मनमानी पर शिकंजा कंसना शुरू कर दिया है।

App से पर्सनल लोन के 'खेल' पर लगेगी लगाम, Google ने बनाए कड़े नियम View Story

Latest 20 Post