चुनाव आयोग सख्ती करे तो निरापद हो सकते हैं चुनाव

offline
कृष्णमोहन झा| Last Updated: बुधवार, 12 जनवरी 2022 (19:58 IST)
देश में कोरोना की तीसरी लहर लहर आ चुकी है और वैज्ञानिक एवं चिकित्सा विशेषज्ञ यह आशंका जता रहे हैं कि
रफ्तार के बावजूद इन राज्यों में कराने का फैसला इसलिए किया क्योंकि चुनावों में अपना भाग्य आजमाने के लिए तैयार बैठे राजनीतिक दल
कोरोना के कारण चुनाव टालने के पक्ष में नहीं थे इसलिए चुनाव आयोग ने सभी दलों की राय जानने के बाद पांच राज्यों की विधानसभाओं का चुनाव कार्य क्रम घोषित कर दिया।

यह सही है कि चुनाव आयोग ने कोरोना के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए राजनीतिक दलों के चुनाव अभियान पर बहुत सी पाबंदियां भी लगा दी हैं परंतु यह कहना ‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌कठिन है कि इन चुनावों में किस्मत आजमाने वाले राजनीतिक दल अपने प्रचार अभियान के दौरान कोविड अनुरूप व्यवहार की सीमाओं का रंच मात्र उल्लंघन भी नहीं करेंगे। जाहिर सी बात है कि कोई भी सत्तारूढ़ दल दुबारा सत्ता में वापसी की महत्वाकांक्षा से मुक्त नहीं हो सकता और विपक्षी दल सत्ता हासिल करने का सुनहरा स्वप्न साकार करने के लिए चुनावों की बेसब्री से इंतजार कर रहा होता है।

अतीत के अनुभव बताते हैं कि चुनावों में आचार संहिता के उल्लंघन के आरोपों से कोई भी राजनीतिक
दल मुक्त नहीं रह पाता फिर भी चूंकि इस समय चुनाव आयोग ने
कोरोना महामारी के कारण उत्पन्न विकट परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए राजनीतिक दलों पर अपरिहार्य पाबंदियां लगाई हैं इसलिए राजनीतिक दलों से भी उनके पालन की अपेक्षा करना स्वाभाविक है।

गौरतलब है कि
मुख्य चुनाव आयुक्त सुशील चंद्रा ने हाल में पांच राज्यों उत्तर प्रदेश, पंजाब, उत्तराखंड, मणिपुर और गोवा विधानसभाओं का जो चुनाव कार्य क्रम घोषित किया है उसके अनुसार उत्तर प्रदेश विधानसभा के लिए मतदान सात चरणों में तथा मणिपुर विधानसभा के लिए दो चरणों में मतदान प्रक्रिया संपन्न कराई जाएगी जबकि पंजाब, गोवा और उत्तराखंड विधानसभाओं के लिए केवल एक चरण में ही मतदान की प्रक्रिया संपन्न कराने की घोषणा चुनाव आयोग ने की है।

चुनाव आयोग ने इन सभी राज्यों में 15 जनवरी तक रैलियों,रोड शो, पदयात्राओं, साइकिल और बाइक रैली आदि पर पाबंदी लगा दी है । इन राज्यों में उम्मीदवार केवल डोर टू डोर कैंपेन कर सकेंगे और डोर टू कैंपेन में भी अधिकतम
पांच व्यक्ति ही शामिल हो सकेंगे। 15 जनवरी के बाद कोरोना संक्रमण की स्थिति का जायजा लेकर चुनाव आयोग यह तय करेगा कि इन पाबंदियों में कितनी छूट दी जा सकती है। चुनाव आयोग द्वारा राजनीतिक दलों पर लगाई गई इन पाबंदियों का निश्चित रूप से स्वागत किया जाना चाहिए।

यह पाबंदियां भले ही कुछ राजनीतिक दलों को रास न आएं परंतु इसके अलावा चुनाव आयोग के पास और कोई विकल्प नहीं था। दरअसल कोरोना की तीसरी लहर की भयावहता को देखते हुए अब तो यह

प्रतीत होने लगा
है कि
इन पांच राज्यों में राजनीतिक दलों को आगे भी प्रचार हेतु
वर्चुअल रैलियों पर ही निर्भर रहना पड़ेगा। चुनाव आयोग से भी यह अपेक्षा गलत नहीं होगी कि वह इन पांचों राज्यों के विधानसभा चुनावों में किस्मत आजमाने वाले सभी राजनीतिक दलों को अपने चुनाव प्रचार में कोविड अनुरूप व्यवहार करने के लिए विवश करे। उल्लेखनीय है कि गत वर्ष लगभग इसी समय चुनाव आयोग ने पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव संपन्न कराए थे और उस समय कोरोना की दूसरी लहर का प्रकोप अपने चरम पर था।

तब कुछ राजनीतिक दलों की रैलियों में भारी भीड़ जुटने पर मद्रास हाई कोर्ट ने चुनाव आयोग को आड़े हाथों लिया था। मद्रास हाई कोर्ट की फटकार के बाद चुनाव आयोग ने राजनीतिक दलों की रैलियों पर कुछ प्रतिबंध तो अवश्य लगाए थे परंतु तब तक काफी देर हो चुकी थी। ऐसा प्रतीत होता है कि चुनाव आयोग ने उस असहज स्थिति से बचने के लिए पांच राज्यों की विधानसभाओं के चुनाव कार्यक्रम की घोषणा के साथ ही 15 जनवरी तक राजनीतिक दलों की सार्वजनिक रैलियों पर रोक लगा दी है लेकिन कोरोना की तीसरी लहर का पीक फरवरी में आने के अनुमान अगर सच होते हैं तो चुनाव आयोग को 15 जनवरी के बाद भी सार्वजनिक रैलियों पर प्रतिबंध जारी रखने का फैसला करने के लिए विवश होना पड़ेगा। इसमें दो राय नहीं हो सकती कि तीसरी लहर के प्रकोप की भयावहता को देखते हुए राजनीतिक दलों को चुनाव प्रचार में संयम का परिचय देना चाहिए।

चुनाव आयोग ने पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों में वर्चुअल रैलियों और डोर टू डोर कैंपेन की जो अनुमति दी है वह निःसंदेह कोऱोना काल बीतने के बाद होने वाले चुनावों में भी उपयोगी मानी जा सकती है। इस तरह
चुनाव प्रचार करने से प्रत्याशियों के चुनाव खर्च में भी कमी आएगी। चुनाव अभियान के दौरान कई बार अप्रिय विवाद भी उठ खड़े होते हैं। डिजिटल चुनाव प्रचार से ऐसे विवादों पर भी रोक लग सकेगी। चुनाव आयोग को यह प्रयोग आगे होने वाले चुनावों में करना चाहिए। यद्यपि ग्रामीण क्षेत्रों में डिजिटल चुनाव प्रचार की अपनी सीमाएं हो सकती हैं परंतु कुछ क्षेत्रों से शुरुआत की जा सकती है। असली उत्सुकता का विषय यह है कि 15 जनवरी के बाद चुनाव आयोग पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों में सार्वजनिक रैलियों पर प्रतिबंध जारी रखता है अथवा घोषित प्रतिबंधों में कुछ देने पर विचार करता है।


Popular Articles

मौसम अपडेट : मध्य प्रदेश में शीतलहर, मौसम विभाग ने दी अगले 2 दिनों तक भीषण ठंड की चेतावनी

सुप्रीम कोर्ट SC-ST को प्रमोशन में आरक्षण के मुद्दे पर आज सुनाएगा अपना फैसला

Trai ने कहा- ग्राहकों को 30 दिन की वैधता वाला प्रीपेड रिचार्ज ही मुहैया कराएं टेलीकॉम कंपनियां

PUBG और Free Fire की टक्कर में आ रहा Made in India बैटल रॉयल गेम Indus, जल्द होगा लॉन्च

Vivo Y75 5G: वीवो का 50MP कैमरे वाला पतला स्मार्टफोन आज भारत में होगा लॉन्च, मिलेंगे धांसू फीचर

Poco X4 5G: 108MP कैमरे और 67W चार्जिंग के साथ जल्द भारतीय बाजार में देगा दस्तक

PUBG: New State की बदली पहचान, गेम में हो सकते हैं कई और बदलाव

Garena Free Fire Redeem Code Today (27 January): आज फ्री में मिलेगा 500x Universal Fragments रिवॉर्ड, जानें कैसे करें क्लेम?

Vivo Y75 5G: वीवो ने लॉन्च किया 50MP कैमरे, 5000mAh बैटरी वाला धांसू फोन, जानें कीमत

WhatsApp में जल्द आएंगे ये 3 बड़े फीचर्स, हैकर्स से बचने और चैट ट्रांसफर करने में मिलेगी मदद

Delhi Police ने लॉन्च किया e-FIR ऐप, अब इस तरह चोरी होने पर घर से ही दर्ज करा पाएंगे FIR

Oppo ला रहा 160W वाला फास्ट चार्जर, मिनटों में फोन होगा फुल चार्ज

PUBG: Battlegrounds का Epic Fails Event, बस शेयर करें गेम के मजेदार पल और पाएं रिवॉर्ड

Tata Sky बना Tata Play, DTH के साथ मिलेगा Netflix का एक्सेस

Garena Free Fire की 5 लोकप्रिय और मजेदार पेट स्किन, गेम जीतने में मिलेगी मदद

Battlegrounds Mobile India से हटा दिए गए ये दो इवेंट, जानें बचे हुए टोकन को कब तक कर सकते हैं एक्सचेंज

RRB-NTPC Exam : छात्रों ने 28 जनवरी को बिहार बंद का किया ऐलान, उत्तरप्रदेश में अलर्ट जारी

केंद्र सरकार कर रही है इतिहास बदलने की कोशिश : शिवसेना

8 साल बाद एशियन गेम्स में हुई क्रिकेट की वापसी, क्या भारत उठा पाएगा फायदा?

देश के 400 जिले दे रहे टेंशन, कोविड पॉजिटिविटी रेट 10% से ज्‍यादा... सरकार ने इन राज्‍यों को अलर्ट रहने के लिए कहा

Latest Posts

  1. मौसम अपडेट : मध्य प्रदेश में शीतलहर, मौसम विभाग ने दी अगले 2 दिनों तक भीषण ठंड की चेतावनी
  2. सुप्रीम कोर्ट SC-ST को प्रमोशन में आरक्षण के मुद्दे पर आज सुनाएगा अपना फैसला
  3. Trai ने कहा- ग्राहकों को 30 दिन की वैधता वाला प्रीपेड रिचार्ज ही मुहैया कराएं टेलीकॉम कंपनियां
  4. PUBG और Free Fire की टक्कर में आ रहा Made in India बैटल रॉयल गेम Indus, जल्द होगा लॉन्च
  5. Vivo Y75 5G: वीवो का 50MP कैमरे वाला पतला स्मार्टफोन आज भारत में होगा लॉन्च, मिलेंगे धांसू फीचर
  6. Poco X4 5G: 108MP कैमरे और 67W चार्जिंग के साथ जल्द भारतीय बाजार में देगा दस्तक
  7. PUBG: New State की बदली पहचान, गेम में हो सकते हैं कई और बदलाव
  8. Garena Free Fire Redeem Code Today (27 January): आज फ्री में मिलेगा 500x Universal Fragments रिवॉर्ड, जानें कैसे करें क्लेम?
  9. Vivo Y75 5G: वीवो ने लॉन्च किया 50MP कैमरे, 5000mAh बैटरी वाला धांसू फोन, जानें कीमत
  10. WhatsApp में जल्द आएंगे ये 3 बड़े फीचर्स, हैकर्स से बचने और चैट ट्रांसफर करने में मिलेगी मदद