Home / Articles / बत्ती गुल... अंधेरे में बदल गईं दुल्हनें, सुबह उठे तो जली 'दिमाग की बत्ती'

बत्ती गुल... अंधेरे में बदल गईं दुल्हनें, सुबह उठे तो जली 'दिमाग की बत्ती'

मध्य प्रदेश के उज्जैन में एक बड़ा ही हैरान करने वाला मामला सामने आया है।दरअसल यहां शादी के दौरान बिजली गुल हो जाने से दुल्‍हनें बदल गईं। सुबह जब दुल्हनें बदलने के बारे में दूल्हों और उनके परिजनों को पता चला तो हड़कंप मच गया। आखिरकार बाद में दोनों परिवारों के बीच समझौता हो गया। परिजनों ने पंडित को बुलाकर पूजा-पाठ एवं फिर से फेरे की रस्म करवाई। - Bride changed in marriage in Ujjain id="ram"> Last Updated: सोमवार, 9 मई 2022 (10:00 IST) मध्य प्रदेश के उज्जैन में एक बड़ा ही हैरान करने वाला

  • Posted on 09th May, 2022 04:35 AM
  • 1479 Views
बत्ती गुल... अंधेरे में बदल गईं दुल्हनें, सुबह उठे तो जली 'दिमाग की बत्ती'   Image
Last Updated: सोमवार, 9 मई 2022 (10:00 IST)
के में एक बड़ा ही हैरान करने वाला मामला सामने आया है।दरअसल यहां शादी के दौरान बिजली गुल हो जाने से दुल्‍हनें बदल गईं। सुबह जब दुल्हनें बदलने के बारे में दूल्हों और उनके परिजनों को पता चला तो हड़कंप मच गया। आखिरकार बाद में दोनों परिवारों के बीच समझौता हो गया। परिजनों ने पंडित को बुलाकर पूजा-पाठ एवं फिर से फेरे की रस्म करवाई।
खबरों के अनुसार, मामला बड़नगर के इंगोरिया थाना क्षेत्र के गांव दंगवाड़ा का है, जहां बीती रात हो रही शादी के दौरान बिजली गुल होते ही ऐसी गड़बड़ हुई जिसे लेकर सुबह बवाल मच गया। यहां एक ही मंडप के नीचे 3 बहनों की शादी हो रही थी।

दरअसल जिस वक्त बिजली गुल हुई तब फेरों की रस्म चल रही थी और बिजली गुल होते ही दुल्हनें बदल गईं। तीनों की शादी धूमधाम से हुई और सुबह तीनों की विदाई भी हो गई। सुबह जब दुल्हनें बदलने के बारे में दूल्हों और उनके परिजन को पता चला तो बवाल मच गया और मामला थाने तक पहुंच गया।

ये हुआ समझौता
दुल्हनें बदलने को लेकर परिवार में दो दिनों से विवाद हो रहा था। आखिरकार को दोनों परिवारों के बीच समझौता हो गया । परिजनों ने पंडित को बुलाकर पूजा पाठ एवं फिर से फेरे की रस्म करवाई गई। इसमें जिस दूल्हे के साथ जिस की शादी होनी थी उसकी शादी कराई गई तब कहीं जाकर मामला ठंडा हुआ।

परिजनों ने बताया कि अंधेरा होने और दुल्हनों के एक जैसी ड्रेस पहने होने के कारण यह अदला-बदली हो गई थी।आखिरकार बाद में दोनों परिवारों के बीच समझौता हो गया। परिजनों ने पंडित को बुलाकर पूजा-पाठ एवं फिर से फेरे की रस्म करवाई। तब कहीं जाकर मामला ठंडा हुआ।

Latest Web Story

Latest 20 Post