Home / Articles / बांग्लादेशी हैकर्स सरकारी वेबसाइट्स को कर रहे टारगेट, सिक्योरिटी फर्म का दावा

बांग्लादेशी हैकर्स सरकारी वेबसाइट्स को कर रहे टारगेट, सिक्योरिटी फर्म का दावा

बांग्लादेशी हैकर्स सरकारी वेबसाइट्स को कर रहे टारगेट, सिक्योरिटी फर्म का दावा Image
  • Posted on 23rd Sep, 2022 05:52 AM
  • 1193 Views

साइबर सिक्योरिटी एक्सपर्ट्स ने दावा किया है कि बांग्लादेशी ग्रुप भारत सरकार की वेबसाइट और सर्वर पर अटैक कर रहे हैं। रिसर्चर्स के मुताबिक, कई राज्य सरकार की वेबसाइट भी इस लिस्ट में शामिल हैं। बांग्लादेशी हैकर्स ग्रुप भारत सरकार की वेबसाइट और सर्वर पर अटैक कर रहे हैं। इसकी जानकारी

बांग्लादेशी हैकर्स ग्रुप भारत सरकार की वेबसाइट और सर्वर पर अटैक कर रहे हैं। इसकी जानकारी साइबर सिक्योरिटी फर्म CloudSEK के रिसर्चर्स ने दी है। रिसर्चर्स ने बांग्लादेशी ग्रुप का नाम Mysterious Team Bangladesh (MT) बताया है, जो Distributed Denial of Service (DDoS) का इस्तेमाल करके केन्द्र और राज्य सरकार की वेबसाइट पर अटैक कर रहे थे। साइबर सिक्योरिटी फर्म ने बताया कि अटैकर्स मुख्य तौर पर भारत सरकार के वेब सर्वर्स पर अटैक कर रहे थे। रिसर्चर्स ने बताया कि बांग्लादेशी ग्रुप ने असम, मध्यप्रदेश, उत्तर प्रदेश, गुजरात, पंजाब और तामिलनाडु सरकार की वेबसाइट पर अटैक किया था। Also Read - Dynamic Island: iPhone 14 Pro का खास फीचर आया Android में, ऐसे करें इंस्टॉल

साइबर सिक्योरिटी रिसर्चर्स को इस बात की जानकारी तब मिली जब बांग्लादेशी ग्रुप ने सरकारी वेबसाइट के DDoS वाले HTTP को लॉन्च किया। इस तरह के कई पोस्ट सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स Facebook, Telegram, Instagram आदि पर मौजूद हैं। रिपोर्ट के मुताबिक, बांग्लादेशी ग्रुप के सदस्य बांग्लादेश के चटगांव शहर के रहने वाले हैं और हाल ही में ग्रैजुएशन पूरा किया है। Also Read - iQOO 11 सीरीज 50MP कैमरे के साथ ग्लोबल मार्केट में होगी लॉन्च! रिपोर्ट से हुआ खुलासा

इस साइबर अटैक को सिक्योरिटी रिसर्चर्स की भाषा में Hacktivism कहा जाता है। बांग्लादेशी ग्रुप को ऐसा करने के लिए फेसबुक, टेलीग्राम और ट्विटर जैसे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म से मोटिवेशन मिल रहा था। CloudSEK के थ्रेट रिसर्चर अभिनव पांडे ने IANS को बताया कि इन ग्रुप्स द्वारा अंजाम दिए गए अटैक का विशलेषण करने के बाद यह पता चला है कि ये मिलकर कई तरह के अटैक कर रहे थे। इसके लिए यह ग्रुप Raven Strom नाम का टूल इस्तेमाल कर रहे थे। इस बांग्लादेशी ग्रुप के एक सदस्य की पहचान तस्कीन अहमद के नाम से हुई है। Also Read - 5000mAh बैटरी, 8GB RAM, 64MP कैमरा और 80W फास्ट चार्जिंग वाले Realme GT Neo 3T की पहली सेल, मिल रहा 7000 रुपये का Discount

पहले भी सामने आई कई घटनाएं

पिछले दिनों सिक्योरिटी रिसर्चर फर्म kaspersky ने भी 200 से ज्यादा साइबर अटैक के बारे में जानकारी दी थी। सिक्योरिटी फर्म के मुताबिक, ज्यादातर साइबर अटैक्स को दूर से यानी रिमोलटली होस्ट किया जाता है। यही नहीं, अपराधियों को कनेक्ट करने, फाइल एक्सेस करने और सबकुछ कंट्रोल भी रिमोटली किया जाता है। ये सबकुछ बिल्कुल वैसे ही होता है, जैसे कोई कर्मचारी किसी ऑफिस में बैठकर फिजिकली सबकुछ काफी ध्यान से और बिल्कुल ठीक करता है।

Kaspersky के मुताबिक,साइबर क्रिमनल का समुदाय अब पहले से ज्यादा विकसित हो गया है। वो ना सिर्फ टेक्निकल प्वाउंट से बेहतर हुए हैं, बल्कि एक मजबूत संस्थान के रूप में भी बेहतर हो चुके हैं, जिसकी वजह से वो किसी भी साइबर क्राइम को एक सटीक प्लान के साथ अंजाम देते हैं।

Related Articles

बांग्लादेशी हैकर्स सरकारी वेबसाइट्स को कर रहे टारगेट, सिक्योरिटी फर्म का दावा View Story

Latest Web Story

Latest 20 Post